Business

Technology

सावधान: 9 जुलाई 2012 से, "इंफेक्टेड" कम्प्यूटर्स पर आएगी नई मुसीबत


कंप्यूटर को लेकर पिछले एक दशक में कई बार अलग अलग तरह की वार्निंग्स आती रही हैं। कुछ मामलों में ये सच साबित हुई है तो कुछ मामलों में महज अफवाह। ताजा चेतावनी अमेरिकी जांच एजेंसी एफबीआई की ओर से आई है। ऍफ़बीआई ने चेतावनी में कहा है की अगर आपका कंप्यूटर 'इंफेक्टेड' है तो 9 जुलाई से ऑनलाइन रहने और कंप्यूटर को इंटरनेट से कनेक्ट करने में आपको भारी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। इतना ही नहीं इंटरनेट बंद होने के साथ ही अगर आपका कम्प्यूटर का इस्तेमाल कर हैकर्स कुछ अपराधिक गतिविधियों को अंजाम देता है तो आपको जेल तक जाना पड़ सकता है। अगर आप अपने कंप्यूटर पर इंटरनेट इस्तेमाल करते हैं तो ये खबर आपके लिए बहुत जरूरी है। जी हां, आप अपने कंप्यूटर की जांच कर यह पता लगा ले कि कहीं आपका कंप्यूटर इंफेक्टेड तो नहीं है।
उल्लेखनीय है की 8 नवम्बर 2012 को अमेरिकी जांच एजेंसी एफबीआई ने कुछ साइवर अपराधियों को पकड़ा था। ये अपराधी 'रोव डिजिटल' नाम की कंपनी के नाम पर "डीएनएस चेंजिंग वाइरस" बाँट रहे थे। एफबीआई के अनुसार यह समस्या उस समय उत्पन्न हुई जब इंटरनेश्नल हैकर्स ने पूरे विश्व में मौजूद इंफेक्टेड कंप्यूटर्स पर नियंत्रण स्था‍पित करने के लिए ऑनलाइन विज्ञापन अभियान चलाया। उल्लेखनीय है की एफबीआई ने विशेष प्रयास करते हुए महीनों पहले ही सरकारी कंप्यूटर्स की मदद से इंटरनेट पर आ रही रुकावटों से बचाने के लिए सेफ्टी नेट सेटअप किया है। पर एफबीआई को उसे भी शीघ्र ही बंद करना होगा।
जानकारी के मुताबिक़ एफबीआई अब कंप्यूटर यूजर्स को अपने सिक्यूरिटी पार्टनर www.dcwg.orgपर जाकर यह देखने के लिए प्रोत्साहित कर रही है कि आपका सिस्टम इंफेक्टेड तो नहीं है और अगर इन्फेक्टेड है तो उससे किस प्रकार से निजात पाई जा सकती है। इस समस्या से प्रभावित यूजर्स 9 जुलाई के बाद इंटरनेट कनेक्ट नहीं कर पाएंगे।
उल्लेखनीय है कि अगर कंप्यूटर यूजर्स ने ध्यान नहीं दिया तो अधिकांश लोगों को तो यह भी पता नहीं चल पाएगा की उनके कंप्यूटर्स इंफेक्टेड है। यद्दपि वह सॉफ्टवेअर उनकी वेब सर्फिंग की गति को धीमा कर देगा और उनकी मशीन पर एंटी सॉफ्टवेअर भी काम नहीं कर पाएगा। गत नवंबर माह में एफबीआई और अन्य निकायों ने उन हैकर्स पर लगाम कसने का प्रयास किया था जो इंटरनेट एड घोटाले के माध्यम से इंफेक्टेड कंप्यूटर्स का विशाल नेटवर्क तैयार कर रहे थे।
यहाँ यह उल्लेखनीय है की एफबीआई सुपरवाइजरी के विशेष एजेंट टॉम ग्रासो ने कहा कि हमें इस बात का अहसास है कि हमें कुछ परेशानी का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि यदि हमने उनके अपराधिक इंफ्रास्ट्रक्चर को ध्वस्त कर सभी को जेल भेज दिया तो कई लोगों को इससे इंटरनेट सेवाओं से हाथ धोना पड़ेगा। यूजर उस समय इंटरनेट इक्सप्लोरर तो खोल सकेगा पर उस पर पेज नॉट फाउंड का संदेश मिलेगा और वह सोचेगा कि इंटरनेट सेवाएं ठीक तरह से काम नहीं कर रही है।
इस चेतावनी के बाद दुनिया भर में इंटरनेट यूजर्स में हडकंप मच गया है। www.dcwg.org पर जाकर यूजर्स अपने कंप्यूटर की स्थिति जानने में लगे हुए हैं।
source:http://www.kharinews.com/
सावधान: 9 जुलाई 2012 से, "इंफेक्टेड" कम्प्यूटर्स पर आएगी नई मुसीबत सावधान: 9 जुलाई 2012 से, "इंफेक्टेड" कम्प्यूटर्स पर आएगी नई मुसीबत Reviewed by NARESH THAKUR on Wednesday, May 02, 2012 Rating: 5

No comments:

blogger.com