Business

Technology

दृष्टि कोण बदलें

एक करोड़पति जिस्को गंभीर आंख दर्द ने परेशान किया गया था। उसने कई चिकित्सकों से सलाह ली।
 उसने भारी दवाओं और सैकड़ों इंजेक्शन का सेवन किया |परंतु कोई फर्क नहीं पड़ा।
एक भिक्षु करोड़पति द्वारा बुलाया गया । भिक्षु उनकी समस्या समझ गया | भिक्षु ने कहा कि कुछ समय के लिए वह केवल हरे रंग देखे और कोई दुसरा रंग नहीं देखे।
करोड़पति ने चित्रकारों का एक समूह बुलाया और हरे रंग की बैरल खरीदी और आदेश  दिया कि हर वस्तु को हरे रंग में दिखना चाहितेहैं , जैसा कि भिक्षु ने कहा था।
जब भिक्षु उसे 20 दिनों के बाद यात्रा से वापिस आए। करोड़पति के सेवक हरी पेंट्स की बाल्टी के साथ भागा आया और भिक्षु पर डाला क्योंकि उसने लाल रंग की पोशाक पहनी हुई थी। 

इस पर भिक्षु हँसा, अगर केवल "आप अगर एक हरा चश्मा खरीदते तो इन दीवारों और पेड़ों को हरा करने पर जो खर्चा किया बचा सकते थे । तुम दुनिया को हरा रंग नहीं कर सकते ...
दुनिया को बदल्ना मुर्खता है , हम खुद को बदलें।
चलो हमारी दृष्टि कोण बदलें ।
दृष्टि कोण बदलें दृष्टि कोण बदलें Reviewed by NARESH THAKUR on Sunday, November 24, 2013 Rating: 5

No comments:

blogger.com