Business

Technology

कैसे बनाएं अपना ब्लॉग?

आज के इस दौर में अपनी बात को दूसरों तक पहुँचाने का सबसे आसान माध्यम ब्लॉग है, जिसे हिंदी में “चिटठा” भी कहा जाता है. ब्लॉग बनाना बहुत आसान है, इसके लिए प्रोग्रामिंग भाषा (Programing Language) की जानकारी होना आवश्यक नहीं है, बल्कि बहुत थोड़ी सी तकनीकी जानकारी ही काफी होती है, अगर तकनीकी जानकारी भी नहीं नहीं तब भी काम चल जाता है.
ब्लॉग के लिए कुछ कम्पनियाँ मुफ्त में सुविधाएं उपलब्ध कराती हैं, जिसमें blogger.com तथा wordpress प्रमुख हैं. इनकी सुविधाएं लेने के लिए आपको ना तो डोमेन नेम खरीदना पड़ेगा और ना ही होस्टिंग पैकेज. बस इनकी साईट पर जाकर अपना अकाउंट बनाना है, अपने ब्लॉग का नाम चुनना है और इसके बाद आप अपनी भावनाओं को ब्लॉग के माध्यम से व्यक्त कर सकते हैं.
आइये सबसे पहले blogger.com की सेटिंग समझते हैं:-

1. सबसे पहले http://blogger.com पर क्लिक करिए अथवा अपने इन्टरनेट ब्राउज़र के एड्रेस बार में blogger.com लिख कर एंटर दबाइए.





2. अगर आपका गूगल अकाउंट है तो (ऊपर दर्शाए गए चित्रानुसार) यहाँ अपने गूगल अकाउंट से लोगिन करना है अथवा “Don’t have a Google Account? के नीचे लिखे “Get started” पर क्लिक करके अपना गूगल अकाउंट बनाना है. अकाउंट बन जाने के बाद फिर यहीं आकर लोगिन करिए.
3. ऊपर दिए गए चित्र अनुसार आपका देश बोर्ड खुल जाएगा. अब आपको चित्र में सर्कल के द्वारा दर्शाए गए लिंक “Create a Blog” पर क्लिक करना है.


4. ऊपर दर्शाए गए चित्र अनुसार खुलने वाले प्रष्ट में “Blog title” के सामने अपने ब्लॉग नाम लिखना है, जैसे की मेरी ब्लॉग साईट का नाम है “प्रेम रस” इसे आप अपने ब्लॉग की भाषा में भी लिख सकते हैं. अर्थात अगर आप हिंदी में अपना ब्लॉग बनाना चाहते हैं तो अपने ब्लॉग का टाइटल हिंदी में लिख सकते हैं.
5. “Blog address (URL)” के सामने बने बॉक्स में आप को अपने ब्लॉग का पता भरना है, उदहारण: myblog. याद रखिये यहाँ पर आपको पता इंग्लिश के शब्दों में भरना है, जिससे की आपके पाठकों को आप तक पहुँचने में आसानी रहे.
6. नीचे लिखे “Check Availability” पर क्लिक करके जाँच सकते हैं कि आपके द्वारा भरा गया पता उपलब्ध है अथवा किसी और ने पहले ही यह नाम रख रखा है.
7. अगर आपका पता उपलब्ध है तो ठीक है अन्यथा दूसरा पता लिख कर फिर से जाँच करिए. पता मिल जाने पर उसके नीचे लिखे “Word Verification” के सामने लिखे अक्षरों को नीचे बने बॉक्स में लिख डालिए. यह शब्द सिक्योरिटी जाँच के लिए होते हैं और इससे सिस्टम को पता चलता है कि फॉर्म भरने वाला कोई मनुष्य है ना कि कंप्यूटर सोफ्टवेयर. अब नीचे लिखे “Continue”  पर क्लिक करिए. 



8. इसके बाद ऊपर दर्शाए गए चित्रानुसार ब्लॉग की थीम अर्थात उसकी साज-सज्जा के विकल्प दिखाई देने लगेंगे. अब आपको अपनी रूचि अनुसार इसमें से किसी भी विकल्प पर क्लिक करके सबसे नीचे तीर के निशान में लिखे ”Continue” पर क्लिक करना है.

इस प्रक्रिया को पूरा करने के बाद आपका ब्लॉग बन जाएगा. उदहारण के लिए अगर आपने पता “myblog” रखा तो आपके ब्लॉग का पूरा पता (अर्थात URL) myblog.blogspot.com होगा.


9. इस प्रक्रिया के बाद ऊपर दिखाई दे रहा प्रष्ट खुलेगा जिसमें तीर के निशान में लिखे “Start blogging” पर क्लिक करने से आपकी ब्लॉग पोस्ट करने वाला प्रष्ट खुल जाएगा, जो कुछ इस तरह का दिखाई देगा.
10. यहाँ “Title” में आपको अपनी ब्लॉग की पोस्ट का शीर्षक लिखना है तथा नीचे की ओर बने हुए बड़े से बॉक्स में अपनी पोस्ट लिखनी है. इस बॉक्स में ऊपर बने विभिन्न तरह के आइकन्स को आपने अपनी पोस्ट की सजावट के लिए प्रयोग कर सकते हैं. आइकन “अ” पर क्लिक करने से आप हिंदी में लिख सकते हैं, इस पर क्लिक करते ही आप जैसे ही अपने कीबोर्ड से कुछ भी टाइप करेंगे वह अपने आप ही हिंदी में बदल जाएगा, जैसे कि “ham” टाइप करने से यह इसे “हम” में बदल देगा.
स्वयं की ब्लॉग साईट:
आप अपना स्वयं का ब्लॉग भी बना सकते हैं, जिसके लिए आपको एक डोमेन नेम अर्थात अपने ब्लॉग का नाम खरीदना पड़ेगा, जैसे मेरे ब्लॉग का नाम www.premras.com है, और साथ ही अगर आप अपनी ब्लॉग-पोस्ट को अपने स्पेस में रखना चाहें तो होस्टिंग पैकेज भी खरीद सकते. होस्टिंग के अंतर्गत उपलब्ध जगह (स्पेस) और डाटाबेस के द्वारा ही ब्लॉग-पोस्ट को सेव किया जाता है.
किसी अच्छी कंपनी से डोमेन नेम खरीदने का तकरीबन 600 रूपये का खर्च आता है. अगर आप केवल डोमेन नेम ही खरीदना चाहते हैं तो अपनी ब्लॉग पोस्ट blogger.com के द्वारा ही प्रकाशित कर सकते हैं. इसके लिए आपको डोमेन नेम खरीदने के बाद उसकी सेटिंग में कुछ बदलाव करने पड़ेंगे तथा blogger.com की सेटिंग में भी कुछ बदलाव करने पड़ेंगे, जिन्हें मैं अगली पोस्ट में समझाने की कोशिश करूँगा.
अगर आप डोमेन के साथ ही होस्टिंग पैकेज भी खरीदना चाहते हैं तो इसके लिए आपको 100 से 150 MB डिस्क स्पेस के लिए तकरीबन 1500 रूपये खर्च करने पड़ेंगे. इसके उपरान्त आप अपनी ब्लॉग साईट का कंटेंट डिज़ाइन करवा सकते हैं अथवा wordpress का सेटअप भी प्रयोग कर सकते हैं. wordpress सेटअप मुफ्त में उपलब्ध होता है, लेकिन इसको सर्वर पर अपलोड करने के साथ ही कुछ सेटिंग भी करनी पड़ती हैं. इसके साथ ही इन्टरनेट पर हज़ारों मुफ्त थीम (साज-सज्जा) भी उपलब्ध हैं तथा आप प्रोफेशनल थीम खरीद भी सकते हैं अथवा अपनी इच्छा अनुसार डेवलेप भी करा सकते हैं, जिसका खर्च कार्य के अनुसार ही आएगा.
आइए ब्लॉग सेटिंग (Setting) के बारे में जानने की कोशिश करते हैं:
डेश बोर्ड से किसी ब्लॉग की सेटिंग सेक्शन में जाने के लिए सबसे पहले ब्लॉग के नाम के नीचे लिखे “सेटिंग्स” (Settings) पर क्लिक करना है।
मूलभूत (Basic) : सेटिंग के प्रष्ट पर पहुँच कर सबसे पहले “Basic” की कुछ महत्वपूर्ण बातों पर नज़र डालते हैं, इसमें “ब्लॉग उपकरण” (Blog Tools) के अंतर्गत “ब्लॉग आयात करें – ब्लॉग का निर्यात करें – ब्लॉग हटाएँ”(Import blog – Export blog – Delete Blog) नज़र आएँगे। हर एक ब्लॉग की सभी पोस्ट और टिप्पणियां एक XML फाइल में सुरक्षित (Save) होती है। अपने ब्लॉग XML फाइल को आप कभी अपने कम्प्यूटर में कॉपी (डाउनलोड) कर सकते हैं अथवा अपने कंप्यूटर से अपने ब्लॉग पर अपलोड कर सकते हैं। “ब्लॉग आयात करें” (Import Blog): XML फाइल कंप्यूटर से ब्लॉग के सर्वर पर अपलोड करने के लिए तथा “ब्लॉग का निर्यात करें” (Export blog) ब्लॉग की XML फाइल कंप्यूटर में Save अर्थात (डाउनलोड) करने के लिए प्रयोग किया जाता है। अगर भविष्य में कभी भी ब्लॉग को समाप्त करना चाहेंगे तो इसे “ब्लॉग हटाएँ” (Delete Blog) पर क्लिक करके समाप्त किया जा सकता है।
प्रकाशन (Publishing): अगर आप अपने ब्लॉग के पते के साथ blogspot.com को हटाना चाहते हैं तो डोमेन नेम खरीद कर इस टेब के द्वारा बिना होस्टिंग खरीदे अपनी वेबसाइट चला सकते हैं, इसके अतिरिक्त किसी ब्लॉग को नए पते के साथ भी जोड़ा जा सकता है। अगर डोमेन नेम खरीदना है तो यह गूगल से भी खरीदा जा सकता है अथवा अपनी पसंद की किसी और कंपनी से भी खरीद सकते हैं। इसके लिए “प्रकाशन” (Publishing) पर क्लिक करने के बाद “कस्टम डोमेन” (Custom Domain) पर क्लिक करना है, अगर डोमेन गूगल से खरीदना चाहते है तो यहाँ नाम के उपलब्ध होने की जांच की जा सकती है, किसी और कंपनी से खरीदना चाहते हैं या पहले से खरीदा हुआ है तो “उन्नत सेटिंग्स पर जाएँ” (Switch to advanced settings) पर क्लिक करना है। नए खुलने वाले प्रष्ट पर लिखे “सेटअप निर्देश” (setup instructions) पर क्लिक करके डोमेन की सेटिंग की जानकारी मिल सकती है। डोमेन सेटिंग पूरी करने के बाद “आपका डोमेन” (Your Domain) के आगे खरीदे गए डोमेन का पता भर कर प्रष्ट के नीचे लिखे “सेटिंग्स सहेजें” (Save) पर क्लिक कर दीजिये। अब आपका वही पुराना ब्लॉग आपके खरीदे गए डोमेन नेम पर खुलने लगेगा।
प्रारूपण (Formatting): इसके अंतर्गत “समय क्षेत्र” (Time Zone) पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है अन्यथा पोस्ट का समय गलत दिखाई देगा। अगर आप भारत में हैं तो (जीएमटी+5:30) भारतीय मानक समय [(GMT+5:30) Indian Standard टाइम] चुने अन्यथा अपने “समय क्षेत्र” (Time Zone) के अनुसार विकल्प को चुने।
टिप्पणियाँ (Comments): के अंतर्गत टिप्पणियों तथा “संग्रहण” (Archiving) में पुराने लेखों की सूची को दर्शाने से सम्बंधित सेटिंग आती है, विकल्पों का पसंद के अनुसार चयन किया जा सकता है।
अनुमतियाँ (Permissions): सेटिंग के अंतर्गत यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण टेब है, जिसके अंतर्गत ब्लॉग में किसी अन्य लेखक को सम्मिलित किया जा सकता है। इसके साथ ही यह भी निर्णय लिया जा सकता है कि आप अपना ब्लॉग किस-किस को दिखाना चाहते हैं, अर्थात इस विकल्प के द्वारा किसी ब्लॉग को केवल सीमित पाठकों के लिए भी बनाया जा सकता हैं।
डिज़ाइन (Design): यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण कॉलम है, जिसके अंतर्गत साज-सज्जा से सम्बंधित कार्य आते है। “पृष्ठ तत्व” (Page Elements) में ब्लॉग के लेआउट से सम्बंधित कार्य आते हैं, “हैडर” (header) को संपादित (Edit) करके ब्लॉग के मुख्य प्रष्ट के उपरी भाग को डिजाईन किया जाता है, यहाँ आप कोई फोटो अथवा डिजाईन भी लगा सकते हैं। “ब्लॉग सन्देश” (Blog Post) के संपादन के द्वारा अन्य विकल्पों के साथ-साथ यह भी तय किया जा सकता है कि कितनी पोस्ट पहले प्रष्ट पर दिखाई जाएं, इसमें दिए अन्य विकल्पों को स्वयं के संदेशों के साथ अपने पाठकों को दिखाया जा सकता है। 
“गैजेट जोड़ें” (Add a Gadget) के द्वारा Follower जैसे अनेकों विकल्पों का चुनाव किया जा सकता है, इसके अंतर्गत आने वाले विकल्प “HTML/JavaScript” के विकल्प पर क्लिक करके खुलने वाली विंडो में बाहरी कोड डाले जाते हैं, जैसे कि ब्लॉग एग्रीगेटर्स, स्टेट काउंटर, किसी अन्य साईट/ब्लॉग का लोगो, विडियो अथवा फोटो इत्यादि के कोड्स।
HTML संपादित करें (Edit HTML) : इसमें अगर कोडिंग की जानकारी है तो ब्लॉग की साज-सज्जा (theme) को पसंद के अनुरूप बदला जा सकता है तथा बाज़ार में मौजूद Themes को ब्लॉग पर लगाया जा सकता है।
टेम्‍पलेट डिज़ाइनर (Template Designer): इस विकल्प में जाकर blogger के द्वारा उपलब्ध कराई गई अनेकों Themes का प्रयोग किया जा सकता है।
(Monetize): यह विकल्प गूगल एडसेंस के विज्ञापन के द्वारा आय के लिए होता है, फिलहाल हिंदी भाषा के ब्लॉग पर यह सुविधा उपलब्ध नहीं है।
आँकड़े (Stats): इस विकल्प से पता चलता है की किसी एक पोस्ट अथवा सम्पूर्ण ब्लॉग पर किस दिन/सप्ताह/माह में कितने पाठक आए और कहाँ से आए।
source:http://news.hamarivani.com/archives/1137
कैसे बनाएं अपना ब्लॉग? कैसे बनाएं अपना ब्लॉग? Reviewed by NARESH THAKUR on Sunday, February 26, 2012 Rating: 5

No comments:

blogger.com