Business

Technology

नींद ना आने की समस्या से हैं परेशान तो ये रहे निदान

अनिद्रा से जूझ रहे लोग प्राकृतिक उपायों की मदद ले सकते हैं। स्लीपिंग पिल्स की तरह इनकी न तो लत पड़ती है और न ही किसी तरह का नकारात्मक प्रभाव। आजकल की आपाधापी के बीच अनिद्रा के रोगियों की संख्या भी बढ़ रही है। यही वजह है कि कुछ लोग पर्याप्त नींद लेने के फेर में नींद की गोलियों की शरण में चले जाते हैं। जाहिर है कि इसका नकारात्मक प्रभाव भी देखने में आता है। ऐसे में रात-रात भर बिस्तर पर करवट बदलने वाले कुछ प्राकृतिक उपायों की मदद ले सकते हैं। इनकी न तो लत पड़ती है और न ही किसी तरह का नकारात्मक प्रभाव।

चुनें सही तकिया 

अच्छी नींद और उपयुक्त तकिये के संबंध को नकारा नहीं जा सकता। तकिया न सिर्फ गले और सिर को सपोर्ट करता है, बल्कि रीढ़ की हड्डी को भी सीधा रखता है। यह आप पर निर्भर है कि आप अपनी सोने की मुद्रा के आधार पर तकिये का चयन करें। अगर आप पेट के बल सोते हैं, तो नर्म-मुलायम तकिये का इस्तेमाल करें। अगर आप एक तरफ करवट के बल सोते हैं, तो मीडियम-सॉफ्ट तकिये को चुनें। अगर आप पीठ के बल सोते हैं, तो आपका तकिया थोड़ा कड़ा होना चाहिए।

सही खान-पान अपनाए 

सोने से पहले ज्यादा खाना न खाएं। ज्यादा खाने से शरीर का तापमान बढ़ता है, जिससे नींद दूर रहती है। इसका यह मतलब भी नहीं है कि आप कम भोजन करें। डिनर के बाद केला खाना अच्छा रहेगा। केले में ट्रिपटोफैन नाम का अमीनो एसिड पाया जाता है, जो शरीर में सेरोटोनिन हार्मोन के उत्सर्जन में मददगार है। यह मस्तिष्क और शरीर को शांत करता है। कैफीन यानी चाय-कॉफी का भी सेवन कम करें।

सप्लीमेंट्स ले 

कैल्शियम और मैग्नीशियम का उचित मात्रा में सेवन नींद की समस्या को दूर करता है। मैग्नीशियम को प्राकृतिक नींद लाने वाला मिनरल माना जाता है। यह तनाव को झेलने में भी मदद करता है। यह मांसपेशियों और दिमाग के तनाव को कम करता है। कैल्शियम की कमी से भी नींद की समस्या उपजती है। इसे समझते हुए इन दोनों से भरपूर खाद्य पदार्थ मसलन दूध, ओट्स और अंजीर का सेवन अच्छा रहेगा।

रोशनी रखें कम 

शाम के समय तेज रोशनी में रहने से भी नींद दूर भागती है। वास्तव में कम रोशनी में मेलाटोनिन नामक हार्मोन का स्राव होता है, जो नींद लाने के लिए जिम्मेदार है।


source:bhaskar.com

नींद ना आने की समस्या से हैं परेशान तो ये रहे निदान नींद ना आने की समस्या से हैं परेशान तो ये रहे निदान Reviewed by NARESH THAKUR on Monday, June 04, 2012 Rating: 5

No comments:

blogger.com